देश : कोहली भी डिप्रेशन का शिकार हो चुके:विराट बोले- 2014 में इंग्लैंड टूर पर नाकाम होने के बाद खुद को दुनिया का सबसे लाचार व्यक्ति समझने लगा था….

0
12

देश :भारतीय कप्तान विराट कोहली भी डिप्रेशन से गुजर चुके हैं। कोहली ने शुक्रवार को इस बात का खुलासा किया। उन्होंने कहा कि 2014 में इंग्लैंड टूर उनके लिए भयावह रहा था। रन नहीं बना पाने पर वे खुद को दुनिया का सबसे लाचार व्यक्ति समझ रहे थे। उन्होंने यह बातें इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर मार्क निकोलस के साथ ‘नॉट जस्ट पॉडकास्ट’ कार्यक्रम के दौरान कहीं।

Advertisements

कोहली ने 2014 में इंग्लैंड दौरे पर 5 टेस्ट की 10 पारियों में 13.50 की औसत से 134 रन बनाए थे। उन्होंने 1, 8, 25, 0, 39, 28, 0,7, 6 और 20 रन की पारियां खेली थीं।

मुझे लगता था कि रन नहीं बना पाऊंगा, यह काफी बुरा अहसास था
कोहली ने कहा, ‘इंग्लैंड दौरा व्यक्तिगत तौर पर मेरे लिए बेहद मुश्किल था। मैं डिप्रेशन में था। मुझे ऐसा लगता था कि मैं रन नहीं बना पाऊंगा। यह बहुत बुरा अहसास था। सभी बल्लेबाजों के लाइफ में इस तरह का एक दौर आता है। उस समय आपके बस में कुछ नहीं होता।’

आसपास लोग थे, फिर भी खुद को अकेला महसूस करता था
उन्होंने कहा, ‘मुझे पता ही नहीं चल पा रहा था कि इस दौर से कैसे निकलूं। मैं खुद को दुनिया का सबसे अकेला व्यक्ति पा रहा था। मुझे उस वक्त अहसास हुआ कि इस बीमारी में आपके आसपास लोग होने के बावजूद खुद को अकेला महसूस करते हैं।’

आत्मविश्वास खो चुका था, बात करने से कतराता था
कोहली ने कहा, ‘ऐसा नहीं है कि मेरे पास बताने के लिए लोग नहीं थे, बल्कि मुझे लग रहा था कि मुझे कोई समझ पाएगा भी या नहीं। कोई ऐसा जिसे मैं कहूं कि सुनो, मुझे कुछ अच्छा महसूस नहीं हो रहा, सुनो मुझे नींद नहीं आ रही। मैं आत्मविश्वास खो चुका था।’

कोहली ने कहा कि कई और खिलाड़ी भी इसी दौर से गुजरे होंगे। कुछ ने महीनों डिप्रेशन में गुजारा होगा। एक बार डिप्रेशन में गए, तो आपके पास निकलने का मौका नहीं होता। बस कोई प्रोफेशनल ही आपको इससे बाहर निकलने में मदद कर सकता है।

90s की भारतीय टीम को देखकर आत्मविश्वास जागा
कोहली ने बताया कि डिप्रेशन से निकलने में 1990 की टीम इंडिया ने उनकी काफी मदद की। उन्होंने कहा, ‘मैं जब भी 90s की टीम को याद करता हूं, तो मुझे समझ में आता है कि क्या करना चाहिए। मैंने टीम इंडिया को कई मैच जीतते हुए देखा। फिर मुझे यकीन हुआ कि खुद पर विश्वास करने से जादुई चीजें भी होती हैं। अगर कोई शख्स ठान ले, तो वह उसे बदल सकता है। यहीं से मुझे आगे बढ़ने का रास्ता दिखा। देश के लिए खेलने का जुनून यहीं से बढ़ा।’

इंग्लैंड दौरे के बाद कोहली ऑस्ट्रेलिया दौरे पर भी गए थे। वहां कोहली फॉर्म में लौटे और 4 टेस्ट में 692 रन बनाए थे। इसमें 4 शतक शामिल हैं।

24 फरवरी से मोटेरा में होगा भारत-इंग्लैंड तीसरा टेस्ट
कोहली फिलहाल इंग्लैंड के खिलाफ 24 फरवरी से शुरू हो रहे तीसरे टेस्ट के लिए अहमदाबाद में हैं। भारत और इंग्लैंड के बीच 4 टेस्ट की सीरीज अभी 1-1 की बराबरी पर है। चौथा टेस्ट भी मोटेरा स्टेडियम में 3 मार्च से खेला जाएगा। इसके बाद यहां 5 मैचों की टी-20 सीरीज भी होगी।

टीम इंडिया को वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल में खेलने के लिए अगले 2 में से एक टेस्ट जीतना होगा और दूसरे को कम से कम ड्रॉ कराना होगा। WTC का फाइनल इसी साल जून में लॉर्ड्स में खेला जाएगा। न्यूजीलैंड की टीम पहले ही फाइनल में पहुंच चुकी है।