राजनांदगांव: आयुक्त कौशिक को सुपरवाइजर, सहायक सुपरवाइजर, स्वच्छता दीदी व शुभचिंतकों ने साल-श्रीफल से किया सम्मान…

0
38

राजनादगांव । नगर पालिक निगम आयुक्त चंद्रकांत कौशिक को कुशल कार्य शहर को विकास कार्य में एक नया पहचान दिलाने के लिए अपना भरपूर मार्गदर्शन सहयोग दिए जिसके कारण आज शहरवासियों हमेशा उनको याद रहेंगे ।

Advertisements

शहर को ग्रीन सिटी के नाम से भविष्य में जाने जाएंगे क्योंकि आयुक्त कौशिक ने पर्यावरण को महत्व को गंभीरता पूर्वक ध्यान में रखते हुए शहर के सभी वार्डों में वृक्षारोपण के तहत गली, चौक चौराहों, मोहल्ला, सड़क किनारे व खाली जगहों पर अनेकों प्रकार से फलदार फूलदार छाऐदार पौधे का वृक्षारोपण किया गया है। जो हमारे आने वाले पीढ़ीयों के लिए पर्यावरण में शुद्ध ऑक्सीजन के साथ शहर का वातावरण अनुकूलन बेहतर रहेगा ।

शहर के हृदय स्थल में जो मानव मंदिर चौक पर वृक्षारोपण के तहत जो ऐतिहासिक कार्य किया है। यह हमारे संस्कार संस्कृति व पर्यावरण के लिए बहुत ही लाभदायक होगा। वे मिलनसार व्यक्ति के धनी सरल स्वभाव की वजह से शहरवासियों के बीच अंतिम व्यक्ति से भी अपना हमेशा संपर्क साधने का प्रयास किया और उनकी हर मूलभूत सुविधा को यथा संभव हो सके नियम अनुसार शासन की योजनाओं का लाभ दिलाने का प्रयास किया और दिलाया भी नगर पालिका निगम से ट्रांसफर एक प्रशासनिक व्यवस्था नियमों के तहत हुआ है, जो धमतरी जिले में संयुक्त कलेक्टर के रूप में सेवा देंगे लेकिन राजनादगांव नगर पालिका निगम में कौशिक जी के नहीं रहने के बाद भी आने वाले पीढ़ियों के लिए एक ऐतिहासिक यादगार बना कर गए हैं जो जन्मों तक निगम को हमेशा याद करते रहेंगे शहरवासियों ने भी पूरे तहे दिल से सम्मान करते हुए विकास कार्य में को भरपूर सहयोग व मार्गदर्शन मिला जिसके कारण आज राजनादगांव शहर में अनेकों बड़े छोटे विकास कार्य किए हैं जिसका मुख्य सफलता शहर के मेयर श्रीमती हेमा सुदेश देशमुख के साथ शहर के व निगम के जनप्रतिनिधियों के साथ निगम के अधिकारी कर्मचारियों को की सहयोग कंधे से कंधा मिलाकर काम करने का रिजल्ट परिणाम शहर में विकास हुआ है, तथा शहर को स्वच्छता सर्वेक्षण में छत्तीसगढ़ राज्य में दूसरा स्थान व देश में 18 वा स्थान रैंकिंग प्राप्त किए हैं, मिशन क्लीन सिटी के स्वच्छता दीदीयो को अपना परिवार की तरह हर छोटी छोटी बात को गहराई से समझाते थे तथा हमेशा कंधे से कंधे मिलाकर एक तालमेल के साथ कार्य करने का संदेश भी देते थे और कहते भी थे काम सभी करते हैं लेकिन नाम से नही कामो से पहचान होना चाहिए या उनकी मूल उद्देश रहते हैं, इस कारण आज हमारे शहर से जाने के बाद हमेशा साथ रहने का प्रमाण को छोड़कर गए हैं अब वृक्षों की देखभाल सुरक्षा करना हम सबकी जिम्मेदारी है आयुक्त श्री कौशिक हमेशा कार्यों के प्रति लगनशील ,मेहनतकश अफसरों के नाम से जाने जाते हैं।

श्री कौशिक को कार्यालय में जाकर विदाई देते हुए साल श्रीफल से सम्मानित किए सुपरवाइजर सुश्री रीभा यादव, विजेंद्र दास मानिकपुरी वार्ड प्रभारी, सुनील घडश्याम वार्ड प्रभारी, श्रीमती सरिता श्यामकर सहायक सुपरवाइजर शंकरपुर, श्रीमती लक्ष्मी साहू सहायक सुपरवाइजर सागरपारा व श्रीमती द्रोपति सिन्हा सहायक सुपरवाइजर इंदिरानगर उपस्थित थे।