राजनांदगांव: कोरोना वैक्सीनेशन की गति बनाए रखें – कलेक्टर, साप्ताहिक समय-सीमा की बैठक संपन्न…

0
12

राजनांदगांव 06 अप्रैल 2021। कलेक्टर श्री टोपेश्वर वर्मा ने कहा कि कोरोना के केस लगातार बढ़ रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में भी कोरोना के केस बढ़े हैं। उन्होंने सभी एसडीएम से कहा कि गांवों में भी लॉकडाउन करें और अत्यावश्यक सेवाओं के अलावा कड़ाई से लॉकडाउन का पालन कराएं। साप्ताहिक बाजार की भी निगरानी करें। सभी सार्वजनिक स्थानों में मास्क का नियम लागू कराएं। उन्होंने कहा कि लोग कोरोना से संबंधित जानकारी छिपा रहे हैं जो अनुचित है।

Advertisements

कोरोना संक्रमित व्यक्ति की मृत्यु होने पर कोरोना प्रोटोकॉल से हटकर अंतिम संस्कार होने पर कोरोना का संक्रमण फैल सकता है। लोगों में इसके संबंध में जागरूकता लाने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि मास्क नहीं लगाने वाले व्यक्तियों पर चालानी कार्रवाई का कार्य सुबह भी चलाएं। सभी होटल, सब्जी बाजार एवं अन्य स्थानों पर चालानी कार्रवाई करें। उन्होंने महाराष्ट्र की सीमा से लगे बागनदी बार्डर में कड़ाई बरतने के लिए कहा।

नवरात्रि के पर्व पर भी किसी प्रकार के धार्मिक एवं सामुहिक कार्यक्रम नहीं होंगे तथा धारा 144 एवं कोरोना प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करें। जनपद सीईओ पंचायतों के माध्यम से अन्य राज्यों से आने वाले लोगों की निगरानी करें और उनका कोरोना परीक्षण अवश्य कराएं।


कलेक्टर श्री वर्मा ने कहा कि कोरोना वैक्सीनेशन की गति को बनाए रखने की जरूरत है। सभी व्यापारियों तथा फुटकर व्यापारियों का आवश्यक रूप से वैक्सीनेशन कराएं। कोरोना वैक्सीनेशन का कार्य निर्बाध गति से चलता रहना चाहिए। 45 आयु से अधिक के सभी नागरिक, अधिकारी-कर्मचारी कोरोना वैक्सीन जरूर लगाएं। श्रमिकों को भी टीका लगवाने के लिए प्रोत्साहित करें।

उन्होंने कहा कि पेयजल प्राथमिकता का कार्य है। पीएचई विभाग को पेयजल एवं निस्तारी के लिए पानी की उपलब्धता हेतु निर्देश दिए। केन्द्र शासन की ओर से नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में पुल-पुलिया निर्माण के लिए 14 करोड़ 25 लाख रूपए की राशि मिली है। सभी कार्य बरसात के पहले तेजी से करें। डीएमएफ एवं विशेष केन्द्रीय सहायता योजना के संबंध में समीक्षा की जाएगी।


जिला पंचायत सीईओ श्री अजीत वसंत ने कहा कि सभी जनपद सीईओ नरवा के डीपीआर बनाकर भेंजे। वैक्सीनेशन के कार्यों को विशेष ध्यान दें। उन्होंने कहा कि जल जीवन मिशन के कार्यों को प्राथमिकता से पूर्ण करना है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी ने कहा कि कोरोना का संक्रमण काफी तेजी से हुआ है ऐसे में सैम्पल लेकर संक्रमित मरीज को आईसोलेट करना है और उनके उपचार की व्यवस्था करना है।

उन्होंने कहा कि 24 घंटे के भीतर कोरोना संक्रमित मरीज की जांच हो जाना चाहिए। सही समय पर पहचान नहीं होने से दिक्कत बढ़ती है। होम आईसोलेशन के मरीजों को अपने ऑक्सीजन स्तर पर ध्यान देना चाहिए। ऑक्सीजन स्तर कम होने पर तत्काल डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। उन्होंने कहा कि विकासखंड स्तर पर कोविड केयर सेंटर में 10 ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध कराएं जाएंगे। कोविड केयर सेंटर को मिनी कोविड हॉस्पिटल के रूप में कार्य करना है। सभी महत्वपूर्ण एन्टीबॉडी दवाईयां केन्द्र में उपलब्ध रखें। पिछली बार की तुलना में कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है। थर्मामीटर, पल्स ऑक्सीमीटर एवं अन्य सुविधाएं उपलब्ध रखें। मृत्यु दर सभी वर्ग चाहे वह युवा हो या बुजुर्ग बढ़ी है। इससे बचाव का एक ही तरीका है समय पर जांच कराएं। भोजन के साथ ही नाश्ता, साफ-सफाई, सेनेटाईजेशन एवं अन्य सुविधाओं का ध्यान रखें। स्वास्थ्य विभाग के सभी कर्मचारी ड्यूटी पर रहेंगे। कोई भी पैरामेडिकल स्टॉफ अवकाश नहीं लेंगे। कोरोना का यह समय कठीन समय है और अभी सभी स्टॉफ की जरूरत है।

इस अवसर पर सीईओ जिला पंचायत श्री अजीत वसंत, अपर कलेक्टर श्री हरिकृष्ण शर्मा, अपर कलेक्टर श्री सीएल मारकण्डेय, एसडीएम राजनांदगांव श्री मुकेश रावटे सहित जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे। वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए विकासखंड स्तरीय अधिकारी जुड़े रहे।