राजनांदगांव : जनभागीदारी अध्यक्ष के हठपन रवैये से परेशान हुए आम गरीब विद्यार्थी – अभाविप…

राजनांदगांव:- आज दूसरा दिन भी अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद राजनांदगांव ने दिग्विजय महाविद्यालय में प्राइवेट छात्र छात्राओं से हो रहे 400 रुपये अवैध वसूली के विरोध में किया धरना प्रदर्शन।

Advertisements

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के प्रदेश सहमंत्री चिंटू सोनकर ने बताया आभविप के प्रतिनिधि मण्डल ने शुक्रवार को बातचीत करने का प्रयास किया किंतु इसके पश्चात भी कोई सार्थक निर्णय नही निकल इसके पश्चात शनिवार को ABVP के कार्यकर्ताओं ने विद्यार्थियों के साथ मिलकर प्रदार्शन किया जिसमे प्राचार्य के अस्वाशन पर की सोमवार को नया निर्णय लिया जाएगा जो विद्यार्थियों के हित में होगा तब जाकर प्रदार्शन शांत हुआ किंतु जब विद्यार्थी सोमवार को कॉलेज फार्म जमा करने आये तो उनसे कहा गया कि 400 जनभागीदारी भी देना पड़ेगा तब जाकर विद्यार्थी सोमवार को और धरना में बैठ गए और जनभागीदारी अध्यक्ष के विरोध में नारेबाजी किये।

सोनकर में बताया कि दिग्विजय महाविद्यालय में प्राइवेट छात्र छात्राओं से गत दिनों जब से फार्म जमा किया जा रहा है तब से 30 रुपये अग्रेषण शुल्क बस लेकर फार्म जमा कर रहे थे किंतु 21/01/2022 को प्राचार्य यह आदेश जारी करते हैं की अब से 22/01/2022 से अग्रेषण शुल्क के साथ 400 रुपये जनभागीदारी शुल्क भी लिया जाएगा जिसका विरोध करने के लिए आज दूसरे दिन फिर दिग्विजय महाविद्यालय में सैकड़ों छात्र छात्राओं ने विद्यार्थी परिषद के बैनर तले प्रदर्शन किया और यह मांग रखी कि जब से एडमिशन का फार्म भरना चालू हुआ है उस समय 30 रुपये लिया जा रहा था व जनभागीदारी शुल्क नहीं लिया जा रहा था

किंतु अब अचानक 22/01/2022 को ऐसा क्या हो गया कि दिग्विजय महाविद्यालय में अग्रेषण शुल्क के साथ 400 रुपये जनभागीदारी शुल्क लिया जा रहा हैं अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने इस निर्णय का विरोध किया है और कालेज प्रशासन से मांग किया कि इस प्रकार के लिए गए अनुचित निर्णय को जल्द से जल्द वापस लिया जाए नहीं तो आने वाले समय में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और विशाल आंदोलन के लिए बाध्य होगी जिसका जवाब दें शासन प्रशासन की होगी।


जनभागीदारी के विषय में जब भी कोई शुल्क के विषय में निर्णय लिया जाता है तो वह जनभागीदारी की बैठक में तय किया जाता है की किस माद में कितना शुल्क लिया जाए किंतु जनभागीदारी बैठक के बिना अचानक 22 जनवरी को निर्णय लिया जाता है कि जनभागीदारी शुल्क 400 रुपये दिया जाना है तो इस प्रकार के अनैतिक एवं असंवैधानिक निर्णय का अभाविप विरोध करती है

उक्त विरोध प्रदर्शन में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के प्रदीप झा,आशीष सोरी, सौरभ रात्रे, देवा यादव,हरीश साहू , नंद कुमार रजक, विनोद टेम्बुलकर, विनोद जांगड़े सोहन कुमार साहू, चांदनी साहू व अन्य कार्यकर्ता उपस्थित थे।

चिन्टू सोनकर
प्रदेश सहमंत्री अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद छत्तीसगढ़
मो. 7898277368