राजनांदगांव: धान विक्रय करने से वंचित न हो पात्र किसान- कलेक्टर…

0
8

राजनांदगांव- कलेक्टर श्री टोपेश्वर वर्मा ने कहा कि धान खरीदी का कार्य तीव्र गति से चल रहा है। छोटे किसानों का धान अब तक अधिक खरीदा गया है। उन्होंने कहा कि ऐसे किसान जो धान बेचने की पात्रता रखते हंै, वे किसी तकनीकी कारण से धान विक्रय करने से वंचित न हों, इस बात का विशेष ध्यान रखें। जिन किसानों को वनाधिकार पत्र जारी किए गए हैं, उनके भी धान की खरीदी की जाएगी। रकबा सुधार के आवेदनों के लिए रकबा सुधार का प्रमाण पत्र जारी करें। उक्त बातें कलेक्टर श्री टोपेश्वर वर्मा ने कलेक्टोरेट सभाकक्ष में आयोजित साप्ताहिक समय-सीमा की बैठक के दौरान कही।कलेक्टर ने धान खरीदी की गहन समीक्षा की।

Advertisements

इस दौरान उन्होंने धान उपार्जन केन्द्रों से धान के उठाव की जानकारी ली। इस दौरान जिला विपणन अधिकार श्री सौरभ भारद्वाज ने बताया कि अब तक 1 लाख 42 हजार किसान धान का विक्रय कर चुके है। कलेक्टर श्री वर्मा ने कहा कि कोरोना वैक्सीन के लिए 16 जनवरी से तीन केन्द्र जिला चिकित्सालय बसंतपुर, मेडिकल कॉलेज हास्पिटल पेण्ड्री, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र डोंगरगढ़ निर्धारित किया गया है। जहां उन्होंने समस्त सुविधाएं सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। आगामी चरणों में चिन्हांकित 63 स्थानों में एक साथ वैक्सीनेशन किया जाना है। जिसके लिए सभी बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध होनी चाहिए। एम्बुलेंस की विशेष व्यवस्था करने की जरूरत है।

गोधन न्याय योजना की समीक्षा के दौरान उन्होंने कहा कि गोधन न्याय योजना शासन की महत्वाकांक्षी योजना है और देश में ऐसी पहली विशेष योजना है। सभी गौठानों में वर्मी कम्पोस्ट का निर्माण होना चाहिए। अब तक 2 हजार 566 क्विंटल वर्मी कम्पोस्ट का उत्पादन हो चुका है। जिसमें 1 हजार 225 क्विंटल वर्मी कम्पोस्ट की बिक्री हुई है और 1 हजार 341 क्विंटल शेष है। गौठान में वर्मी कम्पोस्ट का रखरखाव ठीक तरीके से होना चाहिए। गोबर खरीदी की ऑनलाईन एन्ट्री भी व्यवस्थित तरीके से की जानी चाहिए। आकांक्षी जिला के स्वास्थ्य, पोषण सहित अन्य संकेतक की समीक्षा के दौरान उन्होंंने कहा कि सभी संबंधित विभाग नीति आयोग द्वारा निर्धारित संकेतक के मापदण्डों को पूर्ण करने की दिशा में गंभीरतापूर्वक कार्य करें।

कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग श्रीमती रेणु प्रकाश ने बताया कि हाई रिस्क गर्भवती माताओं को ट्रेक किया गया है और उनके काउंसलिंग एवं एएनसी चेकअप भी जारी है। उनके स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देते हुए स्वास्थ्य विभाग के साथ समन्वय बनाकर कार्य किया जा रहा है। कलेक्टर ने कहा कि बच्चों की पढ़ाई प्रभाावित न हो इसके लिए शासकीय बहुउद्देशीय उच्चतर माध्यमिक शाला (स्टेट स्कूल) परिसर स्थित जिला ग्रंथालय आरंभ कर दिया गया है।उन्होंने सचिव के हड़ताल के मद्देनजर कार्य प्रभावित न हो, इसके लिए अन्य वैकल्पिक व्यवस्था करने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि वनाधिकार पट्टा के प्रकरण तैयार कर प्रस्तुत करें। अवैध प्लाटिंग के प्रकरणों के निराकरण के लिए कानूनी प्रक्रिया का पालन करते हुए नियमानुसार कार्रवाई करें।

जिला निर्वाचन समिति की तिथि 18 तारीख निर्धारित की गई है। इसके लिए समस्त व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश अधिकारियों को दिए।बर्ड फ्लू सेसावधानी रखने के कलेक्टर ने दिए निर्देश-कलेक्टर श्री वर्मा ने बर्ड फ्लू के संबंध में उप संचालक पशु चिकित्सा विभाग डॉ. राजीव देवरस से जानकारी ली। उप संचालक डॉ. देवरस ने बताया कि प्रवासी पक्षी विदेशों से देश एवं प्रदेश में आते है। जिससे बर्ड फ्लू होने की आशंका हो सकती है। उन्होंने बताया कि अभी तक प्रदेश में बर्ड फ्लू की रिपोर्ट निगेटिव है। उन्होंने कहा कि कोई भी पक्षी मृत मिले तो उसे नमक एवं चूना डालकर जमीन में दफना देना चाहिए। तब इस बीमारी के प्रकोप से सुरक्षित रख सकते हंै। कलेक्टर ने कहा कि राजनांदगांव जिले की सीमा महाराष्ट्र एवं मध्यप्रदेश से लगी हुई है। इन क्षेत्रों में बर्ड फ्लू के लिए निगरानी रखने की जरूरत है। उन्होंने सभी सीएमओ को चिकन एवं मटन मार्केट में साफ-सफाई एवं निगरानी रखने के निर्देश दिए।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी ने कहा कि वैक्सीनेसन के लिए सभी मेडिकल स्टॉफ, नगर निगम एवं पुलिस विभाग सूची तैयार रखें ताकि समय पर यह कार्य किया जा सके। उन्होंने कहा कि कोविड-19 की वजह से 60 वर्ष की आयु के ऊपर के लोगों की मृत्यु हो रही है। इसके लिए कोरोना के प्रोटोकाल का पालन करना जरूरी है। इस अवसर पर वन मंडलाधिकारी श्री बीपी सिंह, अपर कलेक्टर श्री हरिकृष्ण शर्मा, अपर कलेक्टर श्री सीएल मारकण्डेय, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी, एसडीएम राजनांदगांव श्री मुकेश रावटे एवं अन्य जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे। इस दौरान सभी एसडीएम एवं विकासखंड स्तरीय अधिकारी वीडियो कान्फ्रेसिंग के जरिए जुड़े रहे।