राजनांदगांव : मौसमी बिमारी डेंगू मलेरिया के रोकथाम हेतु आमजन को डोर टू डोर समझाईस एवं जागरूक करने निगम आयुक्त ने स्वास्थ्य अमला को दिये निर्देश…

संक्रामक बिमारी से बचने सावधानी बरतने एवं स्वच्छता अपनाने आयुक्त ने की नागरिकों से अपील

Advertisements

राजनांदगांव 22 सितम्बर। शासन के निर्देशानुसार मौसमी बिमारी मलेरिया, डेंगू एवं अन्य संक्रामक बिमारियो को फैलने रोकथाम व बचाव हेतु नागरिकों को डोर टू डोर जाकर समझाईस देने व जागरूक किये जाने आयुक्त डॉ. आशुतोेष चतुर्वेदी ने अपने अपने प्रभारित वार्ड में स्वच्छता मित्र एवं वार्ड प्रभारियों को दायित्व सौपने स्वास्थ्य अधिकारी एवं मिशन क्लीन सिटी प्रभारी को निर्देशित किये है। उन्होंने संक्रामक बीमारी से बचने सावधानी बरतने एवं साफ सफाई कर स्वच्छता अपनाने नागरिकों से अपील की है।


आयुक्त डॉ. चतुर्वेदी ने बताया कि मौसमी बिमारी डेंगू मलेरिया तथा अन्य संक्रामक बिमारी फैलने की संभावना बनी रहती है। जिसे ध्यान में रखते हुये नगर में साफ सफाई के अलावा लोगों में संक्रामक बिमारी फैलने से रोकने व बचाव हेतु नागरिकों को डोर टू डोर जाकर निगम का स्वास्थ्य अमला आमजनों को समझाईस दे रहे है एवं साफ सफाई का विशेष ध्यान रखा जा रहा है,

मच्छर से बचाव के लिये शाम को फागिंग किया जा रहा है व क्लोरिन टेबलेट का वितरण भी किया जा रहा है। श्रमिक बाहुल्य वार्ड सहित शहर में स्प्रे किया जा रहा है। मितानिनों के द्वारा घरों के गमले, कुलर में भरे पानी खाली कराया जा रहा है। उन्होंने प्र.स्वास्थ्य अधिकारी श्री राजेश मिश्रा से कहा कि प्रतिदिन नाली नालो की सफाई कर नियमित रूप से कचरा उठावे तथा दवाई का छिडकाव करे। नलो, हैण्ड पंपों के आस पास व गड्ढों मंे भरे पानी को कच्ची नाली खोद कर निकासी की व्यवस्था करें एवं कैपास व नुवान दवाई का छिडकाव करे, जिससे लार्वा उत्पन्न न हो।


आयुक्त डॉ. चतुर्वेदी ने कहा कि बारिश में कुलर को अच्छी तरह से साफ कर खस वाली शीट को धुप में सुखाना है क्याकि डंेगू के मच्छर एंडीस के अण्डे कूलर के खस की शीट में चिपके रहते है और नमी मिलते ही जीवित हो जाते है। इसलिये धूप में सुखाना अत्यंत आवश्यक है। इसी प्रकार आंगन एवं छत की खुली हुई पानी टंकियों को ढक कर रखना है व टूटे फुटे मटके, टायर-ट्यूब, प्लास्टिक के बाटल, डब्बे को नष्ट करना है।

फ्रिज के पानी जमा होने वाले ट्रे के पानी को एवं मंदिर में रखे कलश के पानी को प्रति सप्ताह बदलना है। घरों के आस पास पानी जमा नहीं होने देना है। मच्छरदानी लगाकर सोना है। इस प्रकार की सावधानी बरतकर हम मौसमी संक्रामक बिमारी से बच सकते है।


आयुक्त डॉ. चतुर्वेदी ने नागरिकों से अपील करते हुये कहा है कि उपरोक्त बातों के अलावा साफ सफाई का विशेष ध्यान रखा जाये, पानी छानकर व उबालकर पीये, खाद्य पदार्थाे को ढककर रखे, ताजे फल सब्जी का उपयोग करे। उन्हांेने कहा कि डंेगू एक प्रकार का वायरल बुखार है, इसलिए घबराये नहीं, पर्याप्त मात्रा में पानी पीये, ज्यादा से ज्यादा आराम करे, पौष्टिक आहार का सेवन करे,सर्दी बुखार होने की स्थिति में नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र में सम्पर्क कर तुरंत ईलाज करावे, बिना चिकित्सक की सलाह के कोई दवा न लेवे, सावधानी बरतकर ही हम स्वस्थ्य रह सकते है।