राजनांदगांव : सुव्यवस्थित सुगम यातायात व्यवस्था के लिए लिया गया अहम निर्णय, स्वतंत्रता दिवस समारोह गौरवमयी परंपरा के साथ होगा आयोजित….

– ट्रैफिक नियमों का पालन कराने के लिए जन-जागरूकता अभियान चलाया जाएगा- कलेक्टर

Advertisements

– नियमित रूप से हेलमेट लगाने वाले लोगों को गुलदस्ता, शाल, श्रीफल देकर सम्मानित करें

– स्वतंत्रता दिवस आयोजन और जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक संपन्न

राजनांदगांव 02 अगस्त 2022। जिला कलेक्टर डोमन सिंह और पुलिस अधीक्षक प्रफुल्ल ठाकुर ने आज स्वतंत्रता दिवस समारोह के आयोजन और जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक लेकर अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश एवं सुझाव दिए। बैठक में कलेक्टर ने बताया कि स्वतंत्रता दिवस समारोह राजनांदगांव जिले में हर्ष उल्लास के साथ गौरवमयी परंपरा के साथ आयोजित होगा। बैठक में बताया गया कि स्वतंत्रता दिवस समारोह के आयोजन के लिए जारी निर्देशों का पालन करते हुए आयोजित किया जाएगा। मुख्य समारोह में सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित नहीं किया जाएगा। जिले के प्रमुख चौक, चौराहों, ऐतिहासिक स्मारक और सभी शासकीय कार्यालयों में स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या से रोशनी की जाएगी। सभी शासकीय कार्यालयों में सुबह 7.30 बजे ध्वजारोहण होगा। कलेक्टर ने कहा कि स्वतंत्रता दिवस में विभिन्न क्षेत्रों में कार्य करने वाले अधिकारी-कर्मचारियों को सम्मानित किया जाएगा।

जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में सुगम यातायात व्यवस्था बनाने के संबंध में अहम निर्णय लिया गया। बैठक में दुर्घटना जनित स्थल का चिन्हांकन कर यहां दुर्घटना टालने के लिए आवश्यक कदम उठाया जाएगा। ब्लैक स्पॉट की पहचान एवं सुधार की कार्रवाई की जाएगी। चिचोला छुरिया रोड पर बाबूटोला अंधा पुल, अंधा मोड़ में सुधार के लिए कार्य किया जाएगा। इसी प्रकार से शहर के महावीर चौक से जयस्तंभ चौक, गोल बाजार मानव मंदिर से गुरूनानक चौक तक सड़क पर अतिक्रमण को हटाने की कार्रवाई भी की जाएगी। सुगम यातायात व्यवस्था बनाने के लिए आरके नगर चौक, भगत सिंह चौक, नंदनी चौक, फरहद चौक में ट्रैफिक सिग्नल लगाए जाने के संबंध में चर्चा हुई। इसी प्रकार यातायात सुगम करने के लिए लेफ्ट टार्न को फ्री रखने पर भी चर्चा की गई। जिसमें अंबेडकर चौक से बसंतपुर की ओर जाने वाले मार्ग, महावीर चौक के चारों ओर और पोस्ट ऑफिस के चारों ओर यह व्यवस्था किए जाने पर निर्णय लिया गया।

शहर के अंबेडकर चौक से राम दरबार तक सड़क के दोनों ओर नाली एवं सड़क की ऊंचाई में अंतर करने पर निर्णय लिया गया। मुख्य मार्गाे में खराब स्ट्रीट लाइट को सुधारने और प्रमुख स्थलों पर हाई मास्क लाइट लगाने का निर्णय लिया गया। भारी दबाव वाले मार्ग में जिसमें राजनांदगांव से खैरागढ़ जाने हेतु बायपास मार्ग का निर्माण करने सड़कों में आवारा पशुओं को हटाने, स्कूली बसों की सतत चेकिंग करने, खुटेरी मार्ग में भारी वाहनों का प्रवेश पर रोक लगाने के संबंध में भी विशेष चर्चा हुई। इसी तरह शहर के भीतर पार्किंग हेतु स्थल का चिन्हित करने, सड़क में सोल्डर पर सफेद रंग में मार्क करने, सड़क के किनारे के पेड़ों में रेडियम पट्टी लगाने के संबंध में निर्णय लिया गया। साथ ही आरके नगर, बीजेपी कार्यालय, राम दरबार, पार्रीनाला के पास पूर्व में बने रम्बल ब्रेकर को पुनः बनाए जाने के संबंध में आवश्यक चर्चा की गई।

बैठक में कलेक्टर ने कहा कि जिले के सभी प्रमुख मार्गाे में सुगम यातायात व्यवस्था बननी चाहिए। उन्होंने कहा कि हर एक जीवन अमूल्य है। सड़क दुर्घटना से होने वाली आकस्मिक मौत और जनहानि को रोकना प्राथमिकता में होनी चाहिए। सुगम यातायात व्यवस्था बनाने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाया जाएगा। उन्होंने कहा कि ट्रैफिक नियमों का पालन कराने के लिए जन-जागरूकता अभियान चलाया जाए। लोगों को ट्रैफिक सेंस के संबंध में अवगत कराया जाए। उन्होंने कहा कि समय-समय पर अभियान चलाकर सड़क सुरक्षा के संबंध में लोगों को जागरूक करें। इसी तरह उन्होंने कहा कि नियमित रूप से हेलमेट लगाने वाले लोगों को गुलदस्ता, शाल श्रीफल देकर सम्मानित करें। जिससे लोगों में हेलमेट को लेकर सहज समझ बढ़े।

पुलिस अधीक्षक प्रफुल्ल ठाकुर ने कहा कि सुगम यातायात के लिए जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन हर स्तर पर कदम और अभियान चलाने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि दुर्घटना जनित क्षेत्रों और ऐसे स्थानों का चिन्हांकन यहां दुर्घटना रोकने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाया जाएगा। उन्होंने कहा कि सुगम यातायात व्यवस्था सड़क दुर्घटना से होने वाली हानि को रोकने का प्रमुख उपाय है। इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ गजेन्द्र सिंह ठाकुर, अपर कलेक्टर सीएल मारकण्डेय, नगर निगम आयुक्त आशुतोष चतुर्वेदी, संयुक्त कलेक्टर श्रीमती इंदिरा देवहारी, श्रीमती निष्ठा पाण्डेय, खेमलाल वर्मा, एसडीएम अरूण वर्मा सहित अन्य जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे। विडियो कान्फ्रेसिंग के जरिए सभी एसडीएम, जनपद सीईओ एवं अन्य अधिकारी जुड़े रहे।